न्यौता देने आए सांसद और विधायक को किसानों ने दिखाए काले झंडे, लौटना पड़ा उल्टे पैर

0
379

भिवानी: मुख्यमंत्री की विजय संकल्प रैली के लिए जनसंपर्क कर न्यौता देने बाढड़ा हलके के चिडिय़ा पहुंचे सांसद धर्मबीर सिंह और विधायक सुखविंद्र मांढी को 17 गांव के किसानों ने काले झंडे दिखाकर हूटिंग की जिसके बाद सांसद और विधायक गांव के चौक से न्यौता दिए बिना ही वापस चले गए। ग्रीन कॉरिडोर में आई जमीन का मुआवजा बढ़वाने के लिए किसान पिछले एक महीने से धरने पर बैठे हुए हैं। जिन्होंने अब जनप्रतिधियों का विरोध जताया है। गुरुवार शाम करीब 5 बजे सांसद धर्मबीर सिंह, विधायक सुखविंद्र मांढी और जिला प्रधान रामकिशन शर्मा गांव चिड़िया में सीएम की 30 मार्च को जुई में होने वाली विजय संकल्प रैली के लिए न्यौता देने गए थे।

इस दौरान ग्रामाण चौक पर एकत्रित हो रहे थे लेकिन इस जनसभा के बारे में जब धरने पर बैठे किसानों को पता चला तो वह तुरंत काले झंडे लेकर गांव चिड़िया की तरफ चल दिए। जैसे ही सांसद और वहां विधायक पहुंचे तो सभी किसान एक साथ खड़े हो गए और काले झंडे दिखाते हुए दोनों के मुर्दाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए। किसानों का इतना जबरदस्त विरोध देखकर सांसद और विधायक वहां ग्रामीणों से बातचीत किए बिना ही वापस लौट गए। हालांकि बाद में सांसद धर्मबीर सिंह ने कहा कि किसानों के विरोध को देखते हुए प्रदेश सरकार केंद्र को इस प्रोजेक्ट को रद्द करवाने के लिए लिख चुकी है। उन्होंने कहा कि 9 हजार करोड़ रुपये का नेशनल हाइवे प्रोजेक्ट अब लगभग रद्द होने की कगार पर है।

आपको बता दें कि यह कोई पहला मौका नहीं है जब किसी भाजपा के सांसद को इस तरह के विरोध का सामना करना पड़ा हो। इससे पहले फरीदाबाद में बीजेपी सांसद के टिकट को लेकर घमासान हुआ था। लगातार हो रहे विरोध पर अगर बीजेपी ने अब भी काम नहीं किया तो चुनाव में इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here