भारत की आर्थिक वृद्धि में आई गिरावट

0
148

हरियाणा न्यूज़: भारत की आर्थिक वृद्धि दर की बात करें तो 5 साल के सबसे निचले स्तर पर पहुंचा गया हैं।सकल घरेलू उत्पाद  (GDP) दर में भारत चीन सें पिछड़ता नजर आ रहा हैं।2018-2019 की चौथी तिमाही में भारत की आर्थिक वृद्धि दर काफी पीछे रहा गई हैं। जीडीपी में इतनी गिरवाट कृषि, उद्योग और विनिर्माण सेक्टर के कमजोर प्रदर्शन के कारण हुआ है और जीडीपी पांच साल के निचले स्तर 5.8 प्रतिशत पर पहुंच गई है।

जीडीपी में इतनी गिरावट साल 2014-15  के बाद सबसे धीमी है, इससे पहले वित्त वर्ष 2013-14 में जीडीपी दर 6.4 फीसदी रही थी। चौथी तिमाही में जीडीपी दर चीन की आर्थिक वृद्धि दर 6.4 प्रतिशत से भी कम रही। इससे पहले वित्त वर्ष में जीडीपी वृद्धि दर 7.2 प्रतिशत रही थी। आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा कि मार्च 2019 में वित्त वर्ष में गिरावट NBFC क्षेत्र में दबाव जैसे अस्थायी कारकों के कारण हुआ है। उन्होंने कहा है कि अप्रैल-जून तिमाही तक आर्थिक विकास दर धीमी बनी रहे सकती हैं।

लेकिन इसके बाद आर्थिक विकास दर में तेजी देखने को मिल सकता है। सुभाष चंद्र गर्ग ने राष्ट्रीय आय के आंकड़े पर कहा कि 6.8 प्रतिशत सालाना आर्थिक वृद्धि के आधार पर भी भारत दुनिया की तीव्र वृद्धि वाली अर्थव्यवस्था बना हुआ हैं। लेकिन आर्थिक वृद्धि में आई गिरावट के बाद भी रीयल एस्टेट और पेशेवर सेवा में सुधार दिखने को मिला। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय के आंकड़े के अनुसार भारत की प्रति व्यक्ति आय मार्च 2019 के आखिर में 10 प्रतिशत से बढ़कर 10,534 रुपये महीना पहुंचने का अनुमान है

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here