हर्षोल्लास से मनाया ईद का त्यौहार, लोगों ने मांगी अमन चैन की दुआएं

0
87

हरियाणा न्यूज: बुधवार को नूंह में ईद-उल-फितर का त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। नूंह, नगीना, फिरोजपुर झिरका, पुन्हाना, पिनगवां और तावडू में ईदगाह और जामा मस्जिदों में ईद की नमाज अदा की गई। नमाज के बाद लोगों ने इलाका-ए-मेवात के साथ-साथ देश में अमन शान्ति की दुआ मांगी। इस मौके पर बच्चे बूढ़े सभी ने नए-नए कपड़े पहने और गले मिलकर एक-दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी।

लोगों ने इस खुशी के मौके पर पुराने गिले शिक्वे दूर किए। वहीं पूर्व परिवहन मंत्री आफताब अहमद ने लोगों को ईद की मुबारकबाद दी और अमन से रहने की अपील की। वहीं इस्लाम धर्म के जानकार उलेमाओं ने ईद का महत्व बताया और जकात, फितरा के अदा करने के बारे में तफसील से लोगों को बताया। गौरतलब है कि इस्लाम धर्म में रमजान माह में रखे जाने वाले रोजों की बड़ी अहमियत है। इस्लाम धर्म में लोग रमजान माह में एक महीना के रोजे रखते हैं। चांद देखने के बाद दूसरे दिन ईद-उल-फितर का त्यौहार मनाया जाता है।

इस दिन सभी लोग नए-नए कपड़े पहनते हैं और गांव से दूर बनी ईदगाह या जामा मस्दिज में ईद की नमाज अदा करते हैं। इस दिन लोग अपने पुराने गिले शिकवों को भुलाकर एक दूसरे के गले मिलकर ईद की खुशी बांटते हैं। मुस्लिम बहुल इलाका-ए-मेवात में ईद की खुशी में सभी हिंदु-मुस्लिम शरीक होते हैं। रमजान माह में लोग गरीबों की मदद करते हैं और सवाब के लिए दान, खेरात करते हैं। रमजान माह में गरीबों को फितरा, जकात मालदार लोगों द्वारा देना जरूरी है, न देने पर वे अपने आपको गुनाहगार मानते हैं। 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here