RBI ने किया खुलासा दो साल में 500 से ज्यादा ATM हुए कम

0
156

हरियाणा न्यूजः एक तरफ देश में कैशलेस होने का दौर चला हुआ है। लेकिन कैशलेस होने के लिए देश में डिजिटल प्लेटफॉर्म का होना बेहद जरूरी है। लेकिन हैरान करने वाला मामला सामने है जिसमें रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने खुलासा किया है कि बीते दो साल में देश में क रीब 597 एटीएम कम हो गए है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने यह चौंकाने वाली रिपोर्ट  ‘बेंचमार्किंग इंडिया पेमेंट सिस्टम’ नाम से जारी की है। इस रिपोर्ट के मुताबिक 2017 के आखिर में जहां एटीएम मशीनों की संख्या 2,22,300 थी वह 31 मार्च 2019 तक घटकर 2,21,703 रह गई।

इसके साथ ही रिपोर्ट में यह भी सामने आया है कि भारत में जितना कैश सर्कुलेशन में होता है उसके हिसाब से एटीएम का इस्तेमाल काफी कम है। वर्तमान समय में एटीएम की संख्या में कमी आ रही हो लेकिन 2012 से 2017 के बीच इनके लगने की स्पीड में भारत सिर्फ चीन से पीछे था। रिपोर्ट के मुताबिक 6 सालों के बीच (2012 से 2017) एटीएम की संख्या लगभग डबल हो गई थी। 2012 मे 10,832 लोगों पर एक एटीएम था वहीं 2017 में 5,919 लोगों पर एक एटीएम हो गया।

एटीएम की बढ़ती गिनती को अगर जनसंख्या के हिसाब से देखा जाएगा तो इसका ग्रोथ रेट कम ही है। ATM मशीनों की संख्‍या कम होने के बाद भी ट्रांजेक्‍शन की संख्‍या बढ़ती जा रही है। बता दें कि कॉन्फिडेरेशनल ऑफ एटीएम इंडस्‍ट्रीज ने पिछले साल चेतावनी दी थी कि साल 2019 में भारत के आधे से ज्यादा एटीएम बंद हो जाएंगे। सीएटीएमआई ने तब बताया था कि देश में करीब 2  लाख 38 हजार एटीएम हैं, जिनमें से करीब 1 लाख 13 हजार एटीएम मार्च 2019 तक बंद होने थे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here