कमल पर मोहित हुए विपक्षी दल, हर किसी को बहा रहा केसरिया रंग, अब कौन होगा विपक्ष का चेहरा ?

0
167

हरियाणा न्यूज: लोकसभा चुनाव के बाद से ही बीजेपी का डंका हरियाणा में बजने लगा। इसपर शायद ये कहना गलत नहीं होगी कि बीजेपी लीड पार्टी के रुप में उभरी हैं। कहीं न कहीं विपक्षी पार्टियों का मन-मुटाव बीजेपी के लिए जड़ी बूटी साबित हुआ है। पानी पर तैरने वाला कमल का फूल ही आज सब पर भारी पड़ गया है। लोकसभा चुनाव के नतीजे इस बात को सही साबित कर रही है। दूसरे दलों के नेताओं का बीजेपी मोह ये साबित कर रहा है। पार्टी में बढ़ रही दिन पर दिन सदस्यों की गिनती इसका उदाहरण भी है कि बीजेपी ने मजबूती के साथ ताल ठोकी है। जिससे हर छोटी-बड़ी पार्टी का सिंहासन डोला हैं।

बात अगर विपक्ष की भूमिका में रही पार्टी कांग्रेस की करेंतो आपसी कलह की खाई इतनी गहरी हो चुकी है जिसे पाटने में कहीं आगामी चुनाव का वक्त ना बीत जाएं। कांग्रेस के रोहतक से सांसद रहे अरविंद शर्मा और पृथला से विधायक टेकचंद शर्मा समेत कितने ऐसे कांग्रेसी रहे जिन्होंने बीजेपी पर विश्वास जताया। तो वहीं, बीजेपी को चमकाने में इनेलो का तो जो योगदान रहा उससे तो हर कोई वाकिफ है। ना जाने कितने विधायकों ने बारी-बारी से अपना मैदान छोड़ बीजेपी में आस लगाई।

हाल ही में इनेलो को बाय-बाय बोल चुके हरियाणा विधानसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत ने अपने समर्थकों के साथ बीजेपी में एंट्री की। पारिवारिक लड़ाई के चलते इनेलो में दोफाड़ हुआ तो भी गोपीचंद ओमप्रकाश चौटाला के ही साथ रहें। मगर लोकसभा चुनाव के बाद उनके समर्थकों का दबाव कुछ इस कदर बढ़ा और पार्टी की विचारधारा ने भी उन्हें प्रभावित किया। जिसके बाद उन्होंने इनेलो छोड़ बीजेपी में सेवा देने का मन बनाया। बीजेपी में शामिल होने वाले नेताओं की कतार में तो इजाफा हो ही रहा है लेकिन सवाल अब विधानसभा चुनाव में टक्कर का है कि कौन निभाएगा विपक्ष की भूमिका क्योंकि विपक्ष तो पूरी तरह से बिखरा पड़ा है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here