बढ़ते नशे को रोकने के लिए एक मंच पर आए पांच राज्यों के सीएम, बनाई ये रणनीति

0
106

हरियाणा न्यूज: आज 5 सूबों के प्रधानों ने दिल्ली, चंडीगढ और जम्मू-कश्मीर के आलाधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक चंडीगढ़ में आयोजित हुई। जिसमें पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, उत्तराखंड, राजस्थान के मुख्यमंत्री खुद पहुंचे। पूरा मामला उत्तर के राज्यों में नशे की विकराल होती समस्या से संबंधित है। सभी राज्यों के प्रमुखों ने नशारूपी बुराई को दूर करने के लिए साझी रणनीति पर मंथन किया। दरअसल मसला ये है कि सभी राज्य अपने स्तर पर नशा रोकने के लिए प्रयास तो कर रहे हैं, लेकिन सामूहिक तौर पर किए प्रयास के नतीजे नजर नहीं आ रहे। ऐसे में नशे पर ठोस चोट कैसे हो विचार इसपर किया गया।

बैठक का संचालन पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किया। उन्होंने साफ-साफ ये चिंता जाहिर की कि नशा तस्करों को किसी मुल्क या राज्य की सरहदों तक सीमित नहीं किया जा सकता। पाकिस्तान, भारत में गड़बड़ पैदा करने के मंसूबो के साथ नशा-आतंकवाद को प्रोत्साहन दे रहा है और उड़ी और कांडला समेत अन्य स्थानों के द्वारा नशा हमारे मुल्क में धकेल रहा है। ऐसे में जरूरत पाक की इस नापाक कोशिश के खिलाफ साझे प्रयास की है। तमाम प्रस्तावों पर सभी राज्य के प्रतिनिधि और प्रमुख सहमत रहे।

इसमें कोई संदेह नहीं कि पंजाब के बाद पड़ोसी राज्य हरियाणा में नशे की जद में आ रहे लोग, खासकर युवा आज के समय में चिंता के सबसे बड़े कारण हैं। ऐसे में विपक्षी दल इस मुद्दे को जोर-शोर से उठा भी रहे हैं। एचएलपी सुप्रीमो गोपाल कांडा ने इस समस्या पर सरकार को घेरा भी। हालांकि सरकार की ओर से प्रयास किए जा रहे हैं। लेकिन प्रयासों का असर जमीन पर दिखना चाहिए क्योंकि नार्को टेररिजम या नशा आतंकवाद की थ्योरी सामने आने के बाद मामला और गंभीर दिखाई पड़ता है। अंदरूनी प्रयासों के साथ-साथ पड़ोसी मुल्क की नापाक कोशिश को भी मुंहतोड़ जवाब देना होगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here