शिवरात्रि के बाद होगी तीज की धूम…जानिए तीज व्रत के फायदें..

0
364

हरियाणा न्यूज़: हिंदु धर्म में तीज का त्योहार काफी महत्व रखता है। हिंदुओं के लिए ये त्योहार काफी शुभ माना जाता है। इस बार हरियाली तीज का व्रत 3 अगस्त यानि शनिवार को पड़ रहा है। तीज का व्रत सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए रखती हैं और अच्छे स्वास्थ्य के लिए भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा करती हैं। इस अवसर पर झूला झूलने और मेहंदी लगाने का भी रिवाज है। नवविवाहिताएं पहले सावन में मायके आकर हरियाली तीज का उत्सव मनाती हैं।

हरियाली तीज का शुभ मुहूर्त शुक्ल पक्ष की तृतिया तिथि 3 अगस्त को 1.36 बजे से शुरू होगा और रात 22.05 बजे इसका समापन हो जाएगा। इस दिन विवाहित महिलाओं को अपने मायके से आए वस्त्र ही धारण करने चाहिए, साथ ही श्रृंगार में भी वहीं से आई वस्तुओं का प्रयोग करना चाहिए। माना जाता है कि जो कुंवारी कन्याएं इस व्रत को रखती हैं तो उनके व‌िवाह में आने वाली बाधाएं दूर होती हैं।

जो स्त्री इस दिन व्रत रखती हैं, उन्हें भगवान शिव की पूजा करने के बाद ही व्रत खोलना चाहिए। ये त्योहार वैसे तो तीन दिन मनाया जाता है लेकिन लोग इसे एक ही दिन मनाने लगे हैं। हरियाली तीज पर्व पर मेंहदी और झूले का विशेष महत्व है। इस विशेष अवसर पर नवविवाहिताओं को उनके ससुराल से मायके बुलाने की परंपरा है। वे अपने साथ सिंधारा लाती है। साथ ही मायके से कपड़े, गहने, सुहाग का सामान, मिठाई और मेंहदी भेजी जाती है, जिसे तीज का भेंट माना जाता है। गांव-कस्बों में जगह-जगह झूले लगाए जाते हैं। कजरी गीत गाती हुई महिलाएं सामूहिक रुप से झूला झूलती हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here