370 हटाने का समर्थन करने वाले कांग्रेसियों को गुलाम नबी आजाद ने दी ये नसीहत

0
47

हरियाणा न्यूज: 370 पर जहां सदन के भीतर कांग्रेस जमकर विरोध कर रही थी तो वहीं सदन के बाहर कांग्रेस के ही कई कद्दावर लगातार सरकार के कदम की सराहना कर रहे थे। यहीं से शुरू हो गई 370 पर कांग्रेस के भीतर ‘आर—पार’ की लड़ाई। क्योंकि सरकार का 370 पर लिया गया फैसला कांग्रेस के कई सूरमाओं को रास आ रहा था। ना सिर्फ इस फैसले को लेकर बल्कि पहले से ही कई कांग्रेसी तो बार बार मांग तक करते रहे कि कश्मीर से धारा 370 हटाई जाए। लेकिन जब सरकार ने इस पर एतिहासिक कदम उठाया तो ये मौका था उन कांग्रेसियों के लिए भी देशहित में खडे होने का। इस रास्ते पर जब हरियाणा के पूर्व सांसद दीपेंद्र हुड्डा भी चले तो सीधे-सीधे सवाल उठा दिया गया गुलाम नबी आजाद के द्वारा और नसीहत दे दी गई नेताओं को कि पहले कांग्रेस का इतिहास पढ़े फिर बोलें।

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद का पारा सातवें आसमान पर है। गुलाम नबी आजाद से जब ऐसे कांग्रेसी नेताओं के बारे में सवाल किया गया तो वह भड़क उठे। ये साफ दिखाई दे रहा है कि अनुच्छेद 370 पर मोदी सरकार के फैसले से कांग्रेस दो भागों में बंट चुकी है। मिलिंद देवड़ा, दीपेंद्र हुड्डा, अदिति सिंह समेत कई कांग्रेसी नेता फैसले के साथ हैं। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जिन लोगों को जम्मू-कश्मीर और कांग्रेस का इतिहास नहीं पता है, उन लोगों से मुझे कोई लेना-देना नहीं है। ऐसे नेता पहले कश्मीर और कांग्रेस का इतिहास पढ़े, फिर कांग्रेस में रहे। गुलाम नबी आजाद ने सीधे-सीधे ऐसे लोगों को कांग्रेस छोड़ने का संकेत दे दिया है।

वहीं हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता भूपेंद हुड्डा से जब गुलाम नबी के बयान पर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि ये दीपेंद्र की निजी राय है।वहीं 370 पर असमंजस में फंसी कांग्रेस पर बीजेपी नेताओ ने भी इस मसले को देशहित से जोड़कर बता दिया। खैर 370 से कांग्रेस में मचे घमासान को रोकना कांग्रेस के लिए एक और बडी चुनौती बन चकी है। क्योंकि देशभर में कांग्रेस पार्टी पहले से ही कमजोर स्थिति में है और हरियाणा में तो पूर्व मुख्यमंत्री पहले ही तीखे तेवर दिखा चुके है लेकिन मौजूदा वक्त में यदी ऐसे ही हालात रहेंगे तो आने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी पार्टी कैसे करेगी। बड़ा सवाल है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here