नहीं खत्म हो रही कांग्रेस की परेशानी, कभी सीएम पद तो कभी प्रदेश अध्यक्ष पद पर बवाल

0
101

हरियाणा न्यूज: प्रदेश में विधानसभा चुनाव का काउंटडाउन शुरू हो गया है। सभी पार्टियां जनता के सामने हाजिरी देने में जुट गईं हैं। लेकिन हरियाणा कांग्रेस पार्टी अभी भी अपने ही मसलों में उलझी हुई है। इसी के तहत आज प्रदेश कांग्रेस के बड़े नेताओं ने दिल्ली में सोनिया गांधी से मुलाकात की। अगर ये सवाल पूछा जाए की वो कौन सी पार्टी है जो हरियाणा में सबसे ज्यादा सत्ता पर काबिज रही तो सीधा सा जवाब सामने आएगा कांग्रेस। लेकिन अब दूसरा सवाल ये है की इतनी बड़ी पार्टी होने के बाद भी कांग्रेस विधानसभा चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार क्यों नहीं है? तो इसका जवाब कांग्रेस के बड़े नेताओं के पास भी नहीं है। हरियाणा में कांग्रेस को छोड़ बाकी दल अपनी अपनी तैयारियों में जुटे हुए हैं। लेकिन कांग्रेस में अभी आपसी गुटबाजी और संगठन में फेरबदल जैसे बड़े मुद्दे हावी है।

हरियाणा में जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आते जा रहे हैं वैसे-वैसे कांग्रेस में हलचल तेज हो गई है। जानकारी मिल रही है कि हरियाणा कांग्रेस के बड़े नेताओं ने दिल्ली में कांग्रेस आलाकमान से मुलाकात की और प्रदेश संगठन में बड़े बदलाव के लिए चर्चा हुई। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने बीती 18 अगस्त को रोहतक में महापरिवर्तन रैली कर कांग्रेस आलाकमान पर दबाव डालने का पूरा प्रयास किया था। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस भटक चुकी है,  मैं खुद को अतीत से मुक्त करता हूं।

हुड्डा और तंवर खेमे का विरोध समय-समय पर कांग्रेस में सामने आता रहा है। फिर चाहे वो पगड़ी विवाद हो या फिर नारेबाजी करना। हुड्डा आगामी विधानसभा चुनाव में तंवर को किनारे कर पूरी कमान अपने हाथ में लेना चाहते हैं। कांग्रेस के आपसी विवाद की वजह से विधानसभा चुनाव नजदीक आने के बाद भी कांग्रेस पार्टी चुनावी रेस में पीछे नजर आ रही है। जहां एक तरफ बीजेपी तेजी से प्रचार अभियान चलाए हुए है,  वहीं कांग्रेस अंदरुनी कलह में फंसी हुई है। इसी के चलते आला कमान इस मुद्दे पर कठोर फैसला लेने वाला है, ताकि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस बेहतर प्रदर्शन कर सके।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here