हरियाणा चुनावः अलग-थलग पड़े अशोक तंवर ने कांग्रेस को कहा अलविदा

0
252

हरियाणा न्यूज़: हरियाणा में 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद अलग-थलग पड़े अशोक तंवर ने शनिवार को आखिरकार कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया। इससे पहले तंवर ने टिकट बंटवारे में महत्व न मिलने के बाद दबाव की राजनीति शुरू कर दी थी। उन्होंने गुरुवार को बड़ा फैसला लेते हुए कांग्रेस की सभी कमेटियों से इस्तीफा दे दिया था।

तंवर ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर सभी पदों से मुक्त करने की गुजारिश की थी। राजधानी दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फेंस को संबोधित करते हुए तंवर ने बताया था कि उन्होंने सोनिया गांधी को चिट्ठी लिख सभी पदों से त्यागपत्र दे दिया है। उन्होंने कहा था कि वह सिर्फ साधारण कार्यकर्ता की तरह काम करते रहेंगे। हालांकि, ऐसा लग रहा है कि उनका दबाव काम नहीं आया और उन्होंने आखिरी में शनिवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।

अशोक तंवर गुरुवार शाम दिल्ली के कन्स्टिट्यूशन क्लब में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उपरोक्त ऐलान कर में कहा था कि जिन लोगों ने पिछले 5 साल खून पसीना एक किया और विपक्ष की भूमिका निभाई, टिकट आवंटन में उनकी अनदेखी हुई। उन्होंने कहा कि हमारे अधिकतर साथी अच्छी पोजिशन में थे और अच्छे वोट हासिल कर सकते थे, लेकिन उन साथियों को भी गुटबाजी की भेंट चढ़ा दिया गया।

टिकट बेचने का लगाया सनसनीखेज आरोप

बुधवार को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और सांसद राहुल गांधी संदेश यात्रा में व्यस्त थे, तो हरियाणा कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर अचानक दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे और समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गए।

तंवर का आरोप है कि हरियाणा कांग्रेस में उम्मीदवारों को पैसे लेकर टिकट दिया जा रहा है और जो कार्यकर्ता पार्टी के लिए लगातार पसीना बहाते रहे हैं उन्हें को पूछ भी नहीं रहा है।उन्होंने हरियाणा की सोहना विधानसभा सीट को 5 करोड़ रुपए में बेचने का सनसनीखेज आरोप भी लगाया।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here