सियासी समीकरण में जानिए क्या कांग्रेस हिसार में कर पाएगी वापसी

0
37

हरियाणा की 90 विधानसभा में से हिसार सीट एक है। यह सीट इसलिए खास है क्योकि यह प्रदेश का लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र भी है। यहां हमेशा राजनीतिक तौर पर देखे तो कांग्रेसी ही जीता करते रहे है। इस सीट को पहली बार 1967 में विधानसभा घोषित किया गया था। इस चुनाव में कांग्रेस ने सबसे ज्यादा जीत हासिल की थी। 1967 में कांग्रेस ने निर्दलीय पार्टी के उम्‍मीदवार को हराया था। कह सकते है कि इस सीट पर कांग्रेस का गढ़ रहा है।

बात करें 2014 की तो हिसार सीट पर कांग्रेस और बीजेपी की टक्कर देखने को मिली। बीजेपी प्रत्याशी कमल गुप्ता को 42285 वोट प्राप्त हुए वहीं कांग्रेस के प्रत्याशी सावित्री जिंदल को 28639 वोट प्राप्त हुई थी। दोनो के बीच अंतर सिर्फ 13646 वोटो का रहा। हिसार का वोट प्रतिशत 70.06 रहा। 2014 में यहां 155670 मतदाता रहें। जिनमें 82726 पुरूष मतदाता थे और 72944 महिला मतदाता थे।

पार्टी प्रत्याशी वोट प्राप्त अंतर
बीजेपी कमल गुप्ता 42285  
कांग्रेस सावित्री जिंदल 28639 13646

2019 की टक्कर

हरियाणा चुनाव 2019 में सत्ताधारी बीजेपी ने मौजूदा विधायक कमल गुप्ता हिसार से एक बार फिर भरोसा जताया है। एक के बाद एक विधायक के पार्टी छोड़ने और भीतरी कलह से जुझ रहीं कांग्रेस जिसका इस सीट पर गढ़ भी कह सकते है। कांग्रेस ने इस बार नए प्रत्याशी
रामनिवास राडा को मौका दिया है। वहीं दो गुटो में बटी इनेलो ने अमित सैनी को टिकट दी है। जेजेपी ने इस सीट से जितेंद्र को चुनावी रण में उतारा है। यहां 2019 में 164255 मतदाता है।

पार्टी प्रत्याशी
बीजेपी कमल गुप्ता
कांग्रेस रामनिवास राडा
इनेलो अमित सैनी
जेजेपी जितेंद्र

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here