फरीदाबाद में बाल श्रम करवाने का मामला आया सामने, पुलिस ने 5 बच्चों को किया रेस्क्यू

0
25

हरियाणा न्यूज: हरियाणा में बाल श्रम के मामले लगातार सामने आ रहे हैं राष्ट्रपति द्वारा बाल श्रम कराए जाने पर 2 साल की सजा और 50 हजार जुर्माना का प्रावधान लागू करने के बाद भी बाल श्रम के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे। ताजा मामला फरीदाबाद की डबुआ कॉलोनी से सामने आया है। दरअसल यहां जिन बच्चों के हाथों में किताबें होनी चाहिए उन बच्चों के हाथों में यहां नट बोल्ट दिखाई देते हैं। आपको बता दें कि देश में बाल श्रम कराना कानूनी अपराध है। इसके बावजूद भी छोटे-छोटे बच्चों से बाल श्रम कराया जा रहा है। लोगों को ना तो खाकी का खौफ है ना ही कानून की कोई परवाह।

इस मामले में क्राइम ब्रांच के अधिकारी की माने तो उनके पास चाइल्ड हेल्पलाइन से उनके पास एक कॉल आई जिसमें बताया गया की डबुआ कॉलोनी में कुछ बच्चों से बाल श्रम कराया जा रहा है। जिसपर एक्शन लेते हुए हम वहां पहुंचे और वहां पर देखा कि कुछ बच्चों से बाल सेंड कराया जा रहा था। जिनकी उम्र लगभग 10 से 12 साल की थी। उन्होंने बताया कि इनमें एक बच्ची भी शामिल थी। पूरे मामले पर कार्रवाई करते हुए फैक्ट्री के मालिक के खिलाफ बाल श्रम के कानून के तहत एफआईआर दर्ज कर दी गई है और बच्चों को रेस्क्यू कर लिया गया है

क्राइम ब्रांच के अधिकारी का कहना है कि वर्कशॉप पर फैक्ट्री चलाने वाले लोगों को यह सोचना चाहिए  जब वह अपने बच्चों को पढ़ाना-लिखाना चाहते हैं तो फिर दूसरे बच्चों से पढ़ने लिखने का अधिकार वह क्यों छीन रहे हैं? साथ ही अधिकारी ने सभी माता-पिता की ओर से शहर वासियों से प्रार्थना की है कि आप लोगों को अगर कहीं भी कोई भी बच्चा बाल मजदूरी करता दिखाई दे तो उनकी सूचना 109 डायल कर कर जानकारी दें जिससे उस बच्चे को बचाया जा सके।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here