सीएम के सचिव कृष्ण बेदी ने संभाला कार्यभार, कहा- ‘जनता को बेहतर सुविधा देने का करेंगे काम’

0
51

हरियाणा न्यूज: हरियाणा के सीएम मनोहर लाल के राजनैतिक सचिव कृष्ण बेदी ने कांग्रेस के कुछ नेताओं द्वारा भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर ED की जांच को राजनैतिक उत्पीड़न बताने पर कहा है कि हुड्डा क्यों डरतें हैं जब वह निर्दोष हैं तो उनका कुछ नहीं बिगड़ेगा। अगर कसूरवार हैं तो ED नहीं छोड़ेगी।

कृष्ण बेदी ने सिरसा में ओम प्रकाश चौटाला के तेजा खेड़ा फार्म पर ED की कार्यवाही से अनिभिघता जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। बुधवार को बेदी को बतौर राजनैतिक सचिव रूम नंबर 44 अलॉट हो गया जिसमे वह बैठे। सीएम मनोहर लाल ने बुधवार को अपने दोनों राजनैतिक सचिवों कृष्ण बेदी और अजय गौर को 11-11 जिलों में काम करने के आदेश दिए। बेदी जी.टी. रोड के जिलों पंचकूला, अम्बाला, कुरुक्षेत्र, करनाल, पानीपत, सोनीपत, कैथल, जींद, हिसार, फतेहाबाद और सिरसा का काम देखेंगे। अजय गौर को दक्षिण हरियाणा के 11 जिले मिलें हैं। यह लोग अब सरकार और जनता में तालमेल का काम सम्भालेंगें। 

बेदी ने कहा कि मनोहर सरकार लगातार जनता के विश्वास पर दोबारा सत्ता में आई है। पहले वह पूर्ण बहुमत से थे, लेकिन इस बार गठबंधन की सरकार प्रदेश में बनी है। उन्होंने कहा कि जल्द ही सभी से बैठकर चर्चा की जाएगी और जिसका जो काम होगा वह करेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार का मुख्य उद्देश्य सरकार की नीतियों को जन-जन तक पहुंचाना है, और जनता का ज्यादा से ज्यादा विकास करवाना ही मनोहर सरकार का उद्देश्य है।

प्रदेश में गठबंधन की सरकार पूरे 5 साल जनता के बीच में रहकर मेहनत करेंगे और जनता को बेहतर सुविधा देने का काम करेगी। प्रदेश में समान विकास करवाने का काम भी किया जाएगा और सीएम ने अपनी टीम में मुझे इसी उद्देश्य से लिया है जिसके लिए मैं उनका आभार भी प्रकट करता हूं।

उनका कहना था कि इसमें कोई दो राय नहीं जिम्मेवारी भी बढ़ी है, लेकिन प्रदेश में गठबंधन की सरकार होने के बावजूद नेतृत्व मनोहर लाल ही कर रहे हैं और वह संगठन के बहुत पुराने कार्यकर्ता भी हैं। प्रदेश में लंबे समय से काम करते रहे हैं, उन्हें राजनीति का भी अनुभव बहुत है। इसीलिए किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होगी और दुष्यंत चौटाला भी राजनीतिक परिवार से आए हैं उन्हें भी राजनीति का अच्छा अनुभव है और वह चाहते हैं कि प्रदेश की जनता को लाभ मिले इसको लेकर दोनों ही दल सहमत हैं। 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here