हरियाणा के शिक्षा मंत्री ने लगाया जनता दरबार, लोगों की सुनी समस्याएं

0
253

हरियाणा न्यूज: हरियाणा के शिक्षा मंत्री ने रविवार को जगाधरी स्तिथ कार्यालय पर खुला दरबार लगाकर जन समस्याएं सुनी। वहीं मीडिया से बातचीत को दौरान शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने किलोमीटर स्कीम पर हो रही बयानबाज़ी पर विपक्ष को आड़े हाथों लिया। वहीं कांग्रेस के स्थापना दिवस पर सविधान बचाओ कांग्रेस लाओ की बात पर कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा और कहा कि पहले की कांग्रेस और अब की कांग्रेस का स्वरूप बदल गया है। जो कि देश के लिए न होकर एक परिवार या एक व्यक्ति तक रह गया है।

शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि कांग्रेस का स्थापना दिवस पर मैं कांग्रेस को बधाई देता हूं। लेकिन जिस प्रकार से संविधान बचाओ कांग्रेस लाओ की बात कही जा रही है, देश की आजादी के समय कांग्रेस की स्थापना हुई थी। उन्होंने देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी उस समय जो भी काम किया संस्कृति के लिए देश के लिए किया, लेकिन धीरे-धीरे कांग्रेस का स्वरूप बदल गया, अब यह कांग्रेस वह कांग्रेस नहीं रही। वह कांग्रेस देश के लिए लड़ाई लड़ती थी। यह कांग्रेसी अपने लिए लड़ाई लड़ रही है। केवल अपने स्वार्थों के लिए एक परिवार के लिए एक व्यक्ति के लिए हर जगह से चाहे वह प्रदेश की बात हो या देश की, उसके और उसके परिवार के लिए लड़ रहे हैं। किसी प्रकार की काबिलियत की गुंजाइश कांग्रेस में नहीं है।

जिस प्रकार से उन्होंने कहा कि संविधान को खतरा है तो संविधान को खतरा बीजेपी से या मौजूदा सरकार से नहीं है बल्कि सविधान को खतरा कांग्रेस से है। कांग्रेस ने संविधान को ताक पर रखकर जिस वक्त एमरजैंसी लगाई, जिस प्रकार के जुल्म किए गए, सविधान को खतरा उस समय था। जिस प्रकार धारा 356 लगाकर सरकारों को बर्खास्त किया गया। देश की जनता के साथ सारी घटनाएं हुई, वह संविधान के विरुद्ध थी। आज संविधान को कांग्रेस से खतरा है।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि, अब CAA बिल लागू किया गया, आज कांग्रेसी इसे खतरा बता रही है। यह तो इंदिरा गांधी के समय में 1971 में कानून बनाया गया था। वाजपेई जी की सरकार थी, उसके बाद मनमोहन सिंह जी की सरकार रही, मनमोहन सिंह जी ने माना कि पाकिस्तान से जो लोग आए हैं उनकी हालत खराब है उनका वहां जीवन यापन करना मुश्किल है, वापिस नहीं जा सकते उनको नागरिकता मिलनी चाहिए। अशोक गहलोत की कांग्रेस पार्टी के हैं उन्होंने भी इस प्रकार की मांग की है कि बहुत मुश्किल में वह लोग यहां पर आए हैं।

हिंदुस्तान में जाने के लिए उनके पास समस्याओं के बावजूद भी सालों से लोग हिंदुस्तान में रहते हैं वह मर जाएंगे। लेकिन उनका यह कहना था कि मर जाएंगे वापस नहीं जाएंगे। जिस प्रकार का कानून वर्तमान सरकार में लागू है। इसके लिए मैं पीएम नरेंद्र मोदी और देश के गृह मंत्री अमित शाह को बधाई देता हूं। उन्होंने मानवता का कदम उठाकर नागरिकता देने का काम किया है। जो लोग इस प्रकार से परेशान लोगों ने जो इस प्रकार से लोगों को बहका कर परेशान कर रहे हैं, कि नागरिकता खत्म हो जाएगी या नागरिकता देने की बात है। नागरिकता खत्म करने की कोई बात नहीं है। जिससे संविधान को खतरा है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here