JNU हिंसा: ‘फ्री कश्मीर’ वाले पोस्टर पर सियासी घमासान जारी, मुंबई पुलिस करेगी जांच, पढ़ें- किसने क्या कहा

0
120
फोटो: ANI

हरियाणा न्यूज़: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में हुई हिंसा के खिलाफ चल रहे विरोध-प्रदर्शन के बीच ‘फ्री कश्मीर’ वाले एक पोस्टर पर महाराष्ट्र में राजनीति तेज हो गई है। मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया पर प्रदर्शन के दौरान एक तस्वीर और वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है, जिसमें एक महिला अपने हाथ में ‘Free Kashmir’ (आजाद कश्मीर) का पोस्टर लिए हुए है।

एक तरफ महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस मामले में वर्तमान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर निशाना साधा है तो वहीं कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने भी इस मामले की आलोचना की है। वहीं, अब शिवसेना नेता भी इस विवाद में कूद गए हैं।

छात्रा का बचाव करती दिखी सत्तारूढ़ शिवसेना!

शिवसेना नेता इस मामले में कुछ हद कर छात्रों का समर्थन करते दिखे, हालांकि शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने ‘फ्री कश्मीर’ वाले पोस्टर को लेकर बड़ा बयान दिया है। राउत ने दो टूक कहा कि अगर कोई भारत से कश्मीर की आजादी की बात करता है तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, ‘मैंने अखबार में पढ़ा कि ‘फ्री कश्मीर’ का पोस्टर दिखाने वाले छात्रों ने सफाई दी है कि वे इंटरनेट सेवाओं, मोबाइल सेवाओं और अन्य मुद्दों पर प्रतिबंध से मुक्त रहना चाहते हैं। इसके बावजूद अगर कोई भारत से कश्मीर की आजादी की बात करता है तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।’

वहीं, ‘फ्री कश्मीर’ पोस्टर पर महाराष्ट्र सरकार में मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा, “हमें इसका इरादा देखने की ज़रूरत है, क्या यह इंटरनेट पर पाबंदी को हटाने के लिए था, अगर यह भारत से कश्मीर को अलग करने के लिए था, तो गलत है। जाहिर तौर पर सभी ने इसकी निंदा की, यहां तक कि अन्य प्रदर्शनकारियों ने भी इसका समर्थन नहीं किया”

BJP ने उद्धव ठाकरे पर साधा निशाना

इससे पहले शिवसेना को निशाने पर लेते हुए बीजेपी नेता और पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने ‘फ्री कश्मीर’के पोस्टर वाले वीडियो ट्वीट कर लिखा, ‘यह किस बात का प्रदर्शन है? फ्री कश्मीर के नारे क्यों लगाए जा रहे हैं? हम मुंबई में इस तरह के अलगाववादी तत्वों को कैसे बर्दाश्त कर सकते हैं? मुख्यमंत्री कार्यालय के दो किमी की दूरी पर आजादी गैंग के द्वारा ‘फ्री कश्मीर’ के नारे लगाए गए। उद्धव जी क्या आप ऐसे नारों को बर्दाश्त करेंगे?”

पुलिस ने शुरू की जांच

‘फ्री कश्मीर’ के पोस्टर की आलोचना भी हो रही है। मुंबई पुलिस ने भी इस मामले में संज्ञान लिया है। इस पूरे मामले पर जोन वन के डीसीपी संग्राम सिंह निशांदार ने कहा है, ‘गेटवे ऑफ इंडिया पर हुए प्रदर्शन के दौरान दिखाए गए फ्री कश्मीर वाले पोस्टर पर हमने गंभीरतापूर्वक संज्ञान लिया है। हम जरूर इस मामले की जांच करेंगे।’

छात्रा ने दी सफाई

वहीं, विवाद बढ़ता देख छात्रा ने वीडियो जारी कर खुद इस मामले में सफाई दी है। छात्रा ने कहा कि मैं कश्मीरी नहीं हूं। मैं महाराष्ट्रियन हूं। मैंने इस पोस्टर को इसलिए उठाया कि हम संवैधानिक हक की भी लड़ाई लड़ रहे हैं। अगर हम कहते हैं कि वे (कश्मीरी) अपने हैं, तो हमें उन्हें अपने जैसा ट्रीट भी करना चाहिए। वहां पांच महीने से इंटरनेट बंद है। क्या उन्हें इसका हक नहीं है। सिर्फ इसी मकसद से मैंने उसे उठाया कि उन्हें उनका हक मिलना चाहिए।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here