दिल्ली चुनाव 2020: मनोज तिवारी बोले- राष्ट्रीय राजधानी में केजरीवाल नहीं मेरा चेहरा है ब्रांड

0
203

हरियाणा न्यूज़: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने कहा है कि राष्ट्रीय राजधानी में अरविंद केजरीवाल (दिल्ली के मुख्यमंत्री) नहीं, बल्कि उनका चेहरा ब्रांड है। उन्होंने कहा कि यह बात खुद आम आदमी पार्टी (आप) और केजरीवाल ने भी अपने प्रचार के जरिए बता दिया है।

मुख्यमंत्री पद के सवाल पर मनोज तिवारी ने कहा कि पार्टी ने किसी को मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित नहीं किया है, और जब बीजेपी विधानसभा चुनाव जीत जाएगी तब विधायक मुख्यमंत्री चुनेंगे। मनोज तिवारी ने यह सभी बातें समाचार एजेंसी आईएएनएस के साथ खास बातचीत में कही।

मनोज तिवारी के ब्रांड का इस्तेमाल करती है आप

बीजेपी सांसद ने कहा, “जो व्यक्ति अपनी पार्टी के प्रचार में मनोज तिवारी के ब्रांड का इस्तेमाल करता है, उसने खुद बता दिया कि केजरीवाल ब्रांड नहीं है मनोज तिवारी ब्रांड हैं। मैं बीजेपी अध्यक्ष के रूप में काम कर रहा हूं। जब गाना गाता हूं तो पैसे मिलते हैं, सिनेमा करता हूं पैसे मिलते हैं, नृत्य करता हूं तो पैसे मिलते हैं। मेरी एक ब्रांड वैल्यू है। इस नाते मेरी ब्रांड वैल्यू के अनुसार केजरीवाल को अपने प्रचार के गाने में मेरे चेहरे के इस्तेमाल पर 500 करोड़ रुपये देने पड़ेंगे। मैंने बौद्धिक संपदा अधिकार अधिनियम के तहत दावा कर दिया है। यह पैसा उन्हें दिल्ली सरकार के खजाने से नहीं, पार्टी के फंड से देना होगा।”

मेरे चेहरे का इस्तेमाल कर रही AAP

आप कहती है कि केजरीवाल के मुकाबले बीजेपी के पास कोई चेहरा नहीं है? इस सवाल पर तिवारी ने मुस्कुराते हुए कहा, “अब तो आम आदमी पार्टी ने भी कह दिया कि उनके पास चेहरा ही नहीं है। जब उनके गाने पर ही उनका चेहरा नहीं आ पाया तो फिर क्या कहें। वह तो अपने गाने में मेरे चेहरे का इस्तेमाल करते हैं।”

सीएम बनने के सवाल पर दिया जवाब

बीजेपी ने 2016 में जिस तरह से मनोज तिवारी को प्रदेश अध्यक्ष बनाया, यदि चुनाव में जीत मिलती है तो क्या मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी उठाने को वह तैयार हैं? उन्होंने चतुराई से घुमाकर जवाब दिया। उन्होंने कहा, “दिल्ली में मेरी जिम्मेदारी पार्टी अध्यक्ष की है। मैं प्रदेश अध्यक्ष हूं। जब प्रधानमंत्री जी आते हैं तो बगल मैं ही बैठता हूं। भले ही हमारे केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन.. जी सब कुछ हैं। इतनी बड़ी जिम्मेदारी मिलने के बाद भी अगर केजरीवाल और कांग्रेस को समझ नहीं आता है तो उनको और क्या समझा सकते हैं?”

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here