मकर संक्रांति: गंगा में आस्था की डुबकी लगाने उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, खास पूजा विधि से मिलेगा फायदा

0
109

देशभर में 14 जनवरी को मनाया जाने वाला मकर संक्रांति का त्योहार इस बार 15 जनवरी को मनाया जा रहा है। आज के पावन दिन पर श्रद्धालु सूर्यनमन कर गंगा में डुबकी लगा रहे है। मकर संक्रांति की हिंदू धर्म में काफी मान्यता होती है और इस दिन सभी देवताओं को याद किया जाता है।

मकर संक्रांति के मौके पर वाराणसी, हरिद्वार और प्रयागराज में गंगा जी में आस्था की डुबकी लगाने के लिए भारी भीड़ उमड़ी है। स्नान और दान पुण्य के लिए देशभर से लोगों का हुजूम संगम पर पहुंचा।

स्नान का शुभ समय

इस बार सूर्य, मकर राशि में 14 जनवरी की रात 02:07 बजे प्रवेश करेगा। इसलिए संक्रांति 15 जनवरी को मनाई जा रही है।

संक्रांति काल – 07:19 बजे (15 जनवरी 2020)

पुण्यकाल – 07:19 से 17:42 बजे तक

महापुण्य काल – 07:19 से 09:03 बजे तक

संक्रांति स्नान – प्रात:काल, 15 जनवरी 2020

मकर संक्रांति की पूजा विधि

मकर संक्रांति के दिन सुबह सूर्योदय से पहले उठ जाएं और नहाने के पानी में तिल डालकर स्नान करें। जो लोग इस दिन उपवास रखना चाहते हैं वो व्रत रखने का संकल्प लें और श्रद्धा के अनुसार दान भी जरूर करें। सूर्य देव को जल चढ़ाने के लिए एक तांबे के लोटे में जल लेकर उसमें लाल फूल, चंदन, तिल और गुड़ मिला लें और इस जल के मिश्रण को भगवान सूर्य देव को समर्पित कर दें। ‘ऊं सूर्याय नम:’ मंत्र का जाप सूर्य को जल चढ़ाते हुए करें।

आज के दिन खिचड़ी खाने की भी परंपरा है। एक मान्यता है कि इस दिन किया गया दान सभी दानों में श्रेष्ठ होता है। मकर संक्रांति के दिन सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होते हैं जो बहुत ही शुभ माना जाता है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here