येस बैंक संकट: ‘मोदी ने अर्थव्यवस्था को किया बर्बाद’, राहुल गांधी का सरकार पर हमला, बोले- #NoBank

0
257

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा नकदी संकट से जूझ रहे निजी क्षेत्र के येस बैंक पर कई तरह से पाबंदिया लगाए जाने को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला है। राहुल गांधी ने येस बैंक के मामले को लेकर शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि मोदी और उनके विचारों ने देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया है।

राहुल गांधी ने एक ट्वीट कर कहा, ‘‘येस बैंक नहीं। मोदी और उनके विचारों ने भारत की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया है।’’ कांग्रेस सांसद ने इस ट्वीट के साथ हैशटैग #NoBank का भी इस्तेमाल कर मोदी सरकार पर तंज कसा है। राहुल गांधी द्वारा #NoBank ट्वीट करने के साथ यह ट्विटर है ट्रेंड करने लगा है।

राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भी ट्वीट कर दावा किया, ‘‘बीजेपी 6 साल से सत्ता में है। वित्तीय संस्थानों को नियंत्रित और विनियमित करने की उनकी क्षमता उजागर होती जा रही है।’’ उन्होंने सवाल किया, ‘‘पहले पीएमसी बैंक, अब येस बैंक। क्या सरकार बिल्कुल भी चिंतित नहीं है? क्या वो अपनी जिम्मेदारी से बच सकते हैं? क्या अब कतार में कोई तीसरा बैंक है?’’

संकट में येस बैंक

बता दें कि अगर आप यस बैंक के ग्राहक हैं तो आपके लिए एक बुरी खबर है। दरअसल, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने गुरुवार को नकदी संकट से जूझ रहे निजी क्षेत्र के येस बैंक के निदेशक मंडल को भंग करते हुए उस पर प्रशासक नियुक्त कर दिया। इसके साथ ही बैंक के जमाकर्ताओं पर निकासी की सीमा सहित इस बैंक के कारोबार पर कई तरह की पाबंदिया लगा दी गई हैं। केंद्रीय बैंक ने अगले आदेश तक बैंक के ग्राहकों के लिए निकासी की सीमा 50,000 रुपये तय की है।

यानी भले ही येस बैंक के आपके खाते में लाखों रुपये हों, लेकिन आप सिर्फ 50 हजार रुपए ही निकाल सकते हैं। फिलहाल, ये प्रतिबंध 30 दिनों के लिए लगाया गया है जो 5 मार्च 2020 से शुरू हुआ है और 3 अप्रैल तक चलेगा। आरबीआई ने येस बैंक के बोर्ड को भी अपने नियंत्रण में ले लिया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ग्राहकों को आश्वस्त किया है कि उनका पैसा किसी सूरत में डूबेगा नहीं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here