नहीं रहे महान फुटबॉलर चुन्नी गोस्वामी, 82 साल की उम्र में निधन

0
156

भारत के महान पूर्व फुटबॉलर चुन्नी गोस्वामी का गुरुवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह 82 वर्ष के थे। उन्होंने कोलकाता के एक अस्पताल में अंतिम सांस ली। उनके परिवार में पत्नी बसंती और बेटा सुदिप्तो हैं। उनके बेटे सुदीप्तो ने कहा कि उन्हें गुरुवार सुबह अस्पताल में भर्ती कराया गया और शाम को 14 मिनट के अंदर ही उन्हें तीन बार दिल का दौरा पड़ा और फिर इसके बाद उनका निधन हो गया।

‘मैं अकेल हूं…’

गोस्वामी के बेटे ने आईएएनएस से कहा कि उन्होंने सुबह नाश्ता किया। इसके बाद सामान्य जांच के लिए हम उन्हें अस्पताल ले गए। उन्होंने दोपहर का भोजन किया और दोपहर की झपकी भी ली। लेकिन शाम पांच बजे के आसपास 14 मिनट के अंदर ही उन्हें तीन बार दिल का दौरा पड़ा। उन्होंने कहा मैं इस समय निशब्द हूं। मैं अकेला हूं।

गोल्ड जीतने वाली टीम के कप्तान थे गोस्वामी

गोस्वामी 1962 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम के कप्तान थे और वह बंगाल के लिए प्रथम श्रेणी क्रिकेट भी खेले थे। वह पिछले कुछ समय से मधुमेह, प्रोस्ट्रेट और तंत्रिका तंत्र संबंधित बीमारियों से जूझ रहे थे। वह आई लीग क्लब मोहन बागान क्लब के लिए भी खेल चुके थे।

उनकी कप्तानी में भारत ने 1962 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीते थे और 1964 में एशियन कप में उपविजेता भी रहा था। उन्होंने मोहन बागान के लिए 1956 से 1964 तक 50 मैच खेले थे। एक क्रिकेटर के तौर पर उन्होंने 1962 से 1973 तक अपने राज्य के लिए 46 प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैच खेले थे।

अर्जुन अवार्ड और पद्मश्री से किया जा चुका है सम्मानित

गोस्वामी को 1963 मे अर्जुन अवार्ड से और 1983 में पद्मश्री अवार्ड से नवाजा गया था। उन्होंने 1968-69 सीजन में रणजी ट्रॉफी में बंगाल का प्रतिनिधित्व किया था। इसके अलावा वह दलीप ट्रॉफी में ईस्ट जोन के लिए भी खेले थे। उन्होंने 46 प्रथम श्रेणी मैचों में 1592 रन बनाए थे। गोस्वामी ने टाटा फुटबाल अकादमी में बतौर निदेशक अपनी सेवाएं भी दी थी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here