सियासी घमासान के बीच आलाकमान ने बनाई सिद्धू से दूरी, नए विकल्प की तलाश शुरु

0
64

पंजाब की राजनीति में एक फिर भूचाल आ गया है। कैप्टन अमरिंदर सिंह के बाद अब प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने अपना पद त्याग दिया है। पंजाब में 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनावों की तैयारियों में जुटी कांग्रेस की मुश्किलें खत्म नहीं हो रही हैं। 

बता दें कि नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब सरकार में हुई कुछ नियुक्तियों से खफा थे। जिसका उन्होंने खुले तौर पर विरोध किया था। मंगलवार दोपहर को तीन बजे सिद्धू ने अपना इस्तीफा ट्विटर पर जारी किया और पहला बयान भी दिया। वहीं दूसरी ओर आलाकमान ने कड़ा रुख अपना लिया है। माना जा रहा है कि पार्टी अब सिद्धू को मनाने की कोशिश नहीं करेगी और एक नए विकल्प की तलाश भी कांग्रेस की तरफ से शुरु कर दी गई है।

सिद्धू ने सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी ट्वीट की  जिसमें उन्होंने कहा कि वे अपने मुद्दों से समझौता नहीं कर सकते हैं और इसलिए पद छोड़ रहे हैं।

बुधवार को सिद्धू ने फिर ट्विटर पर अपना बयान जारी किया। साथ ही वीडियो संदेश में कहा कि दागी सिस्टम को हटाने की बात हुई थी, लेकिन फिर दागियों को लाया जा रहा है जो ठीक नहीं है। वे हक-सच की लड़ाई लड़ते रहेंगे,  ऐसे में अपने एजेंडे से पीछे नहीं हटेंगे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here