12 राज्यों में छाया बिजली संकट, भीषण गर्मी से हो रहे लोग परेशान

0
217

भीषण गर्मी इस साल भी सारे रिकॉर्ड तोड़ रही है। जो गर्मी जून-जुलाई में देखने को मिलती थी, वह मार्च अप्रैल में ही आ गई है। इसी कारण पूरे देश में बिजली की खपत भी बढ़ गई है। उसी का नतीजा है की भारत के 12 राज्यों को बिजली की किल्लत का सामना कर पड़ रहा है। लगातार बढ़ रही मांग के कारण अलग-अलग राज्यों में बिजली का संकट बढ़ता जा रहा है। इन राज्यों में उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश शामिल हैं।

क्यों हो रही है बिजली की किल्लत

थर्मल प्लांट में कोयला ना होने के कारण बिजली उत्पादन में परेशानी हा रही है। साथ ही बढ़ती गर्मी के कारण भी उन पर अतिरीक्त बिजली पैदा करने का भी दबाव है। कई राज्यों में केंद्र सरकार द्वारा उनकों उनकी मांग के मुताबिक कोयला नहीं मिल पा रहा है। वहीं दूसरी तरफ कई राज्यों ने कोयला कंपनियों का पिछला बकाया नहीं चुकाया है। इसलिए उन राज्यों को कोयला मिलने में देरी हो रही है। एक आंकडे के अनुसार, पूरे भारत में पिछले हफ्ते 623 मिलियन बिजली युनिट की शॉर्टेज हुई है। यह पूरे मार्च महिने में हुई शॉर्टेज से भी ज्यादा है।

किन राज्यों में है सबसे बड़ा संकट….

अगर भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की बात करें तो उसके पास सिर्फ अपनी खपत का 26 फीसदी कोयला ही बचा है। यह कोयला सिर्फ अगले 7 दिनों के लिए ही प्रयाप्त है। आम परिस्थितयों में यह स्टॉक 17 दिनों का होता है। सभी राज्यों में झारखंड को सबसे ज्यादा बिजली की कमी का सामना करना पड़ रहा है। झारखंड सरकार पर कोयला कंपनियों का करोड़ो का बकाया बाकि है। जिस कारण से उन्हें समय पर कोयला नहीं मिल पा रहा है।

उठ रही है कोयला आयात करने की मांग….

देश में कोयले की कमी को देखते हुए कई राज्यों द्वारा कोयला आयात करने की मांग उठ रही है। अधिकतर राज्यों का यह कहना है की अगर देश में कोयले की खपत पूरी नहीं हो पा रही है, तो केन्द्र उन्हें आयात करने की अनुमती दें। पर इस मामले पर केंद्र सरकार ने अपना रुख साफ नहीं किया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here