देश के 75 जिलों में लॉकडाउन का ऐलान, रेल सेवाएं, मेट्रो और सभी अंतर्राज्यीय बसों को 31 मार्च तक किया गया रद्द

0
605

केंद्र सरकार ने देश के 75 जिलों में लॉकडाउन करने का आदेश दिया है। 31 मार्च तक सभी रेल सेवाएं बंद कर दी गई हैं। इसके साथ ही मेट्रो और अंतरराज्यीय बस सेवा भी निलंबित कर दिया गया है। कैबिनेट सचिव ने आज राज्यों के मुख्य सचिवों के साथ कोरोना वायरस की​ स्थिति की समीक्षा की।

इसके बाद जिन 75 जिलों में कोरोना वायरस के मामलों की पुष्टि हुई है उनमें सिर्फ जरूरी सेवाओं की अनुमति दी जाएगी। 31 मार्च तक के लिए अंतर-राज्य बस सेवाएं, भारतीय ट्रेंने और सभी मेट्रो रेल सेवाओं को भी निलंबित कर दिया गया है।

दुनियाभर के बाद अब भारत में भी कोरोना वायरस का प्रकोप कितना बढ़ चुका है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इतिहास में पहली बार भारतीय रेलवे ने कई दिनों के लिए ट्रेनें रद्द कर दी हैं। रेलवे ने 31 मार्च रात 12 बजे तक के लिए सभी ट्रेनें रद्द कर दी हैं। सिर्फ मालगाडी चलेगी। कोरोना से बचाने के लिए ये अभूतपूर्व कदम उठाया गया है।

पीएम मोदी ने भी कल ट्वीट में इस बात का जिक्र किया था कि ट्रेनों में काफी भीड़ हो रही है। उन्होंने लोगों से ये भी कहा था कि आखिर क्यों जा रहे हैं, जहां पर हैं वहीं पर रहिए। रेलवे बोर्ड ने सभी ज़ोनल महाप्रबंधकों को सूचित किया है कि कोरोना के कारण 31 मार्च तक सभी यात्री गाड़ियों को रद्द कर दिया गया है जिनमें शताब्दी, राजधानी, दूरंतो, गतिमान, वंदेभारत, तेजस समेत सभी प्रीमियम, मेल/एक्सप्रेस, सुपरफास्ट, पैसेंजर गाड़ियों की सेवाएं शामिल हैं।

मुंबई उपनगरीय सेवाएं और कोलकाता मेट्रो की जो सेवाएं न्यूनतम स्तर पर चलाने की घोषणा की गई थी, वे आज रात 12 बजे के बाद पूर्णत: बंद कर दी जाएंगीं। जो गाड़ियां 22 मार्च को सुबह चार बजे से पहले रवाना हुईं हैं, उनको गंतव्य तक पहुंच जाएंगीं।

बता दें कि कोरोना वायरस को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित जनता कर्फ्यू के मद्देनजर देश में आज कोई भी ट्रेन नहीं चल रही है। बीती रात से ही आज रात 10 बजे के बीच किसी भी स्टेशन से कोई यात्री ट्रेन सफर शुरू नहीं कर रही है। कोरोना वायरस के चलते गैर-जरूरी यात्रा पर रोक लगाने के मकसद से रेलवे ने तकरीबन चार हजार ट्रेनों को रद्द कर दिया है।


कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here