प्रदेश के लाल ने किया नाम रोशन, आटा चक्की चलाने वाले का बेटा बना न्यूक्लियर साइंटिस्ट

0
94

हरियाणा न्यूज: हिसार के गांव मुकलान में आटा चक्की चलाने वाले के बेटे ने गर्व महसूस करने वाली उपलब्धि हासिल की है। परिवार की मुश्किल हालातों के बावजूद अशोक न्यूक्लियर साइंटिस्ट बना  है। आपको बता दें कि गांव के अशोक कुमार का चयन भामा अटोमिक रिसर्च सेंटर के लिए हुआ है। अशोक ने मार्च में भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर रिक्रूटमेंट की परीक्षा दी थी।

अशोक की कामयाबी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कॉरपरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी स्‍कीम (CSR Scheme) का योगदान है। इस स्‍कीम के कारण वह अपनी इंजी‍निय‍रिंग की पढ़ाई पूरी कर सके। अशोक ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 2014 में शुरू की गई सीएसआर (कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी) स्कीम  उसके लिए वरदान बन गई। परिवार की आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्कीम ने उसे ये लाभ दिया।

साथ ही उसने बताया कि परीक्षा के बाद  उसका दिसंबर में इंटरव्यू के बाद ओवरऑल रिजल्ट जारी किया गया। जिसमें उसकी ऑल इंडिया सेकेंड रैंक आई है। 5 जनवरी को भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर की ओर से नतीजे घोषित किए गए। अशोक ने बताया कि पूरे देश से करीब 30 छात्रों का चयन हुआ है और इसमें उनका भी नाम है। अशोक के पिता मांगेराम के पास एक एकड़ जमीन है और वह आटा चक्की चलाकर परिवार का पेट पालते हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here